Course

शिक्षण पाठ्यक्रम एवं विषय संयोजन

शासकीय नागार्जुन स्नातकोत्तर विज्ञान महाविद्यालय, रायपुर विज्ञान में स्नातक एवं स्नातकोत्तर कक्षाओं के अध्यापन और अध्ययन की सुविधाओं से संपन्न है । इसका संचालन तथा वित्तीय परिक्षेत्र छत्तीसगढ़ शासन के अधीन है ।

यह महाविद्यालय पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर से स्वशासी महाविद्यालय (ऑटोनोमस कॉलेज) के रुप में मान्य तथा सम्बद्धता प्राप्त है । राज्य शासन द्वारा आदर्श महाविद्यालय के रुप में अनुमोदित किया गया है । इस महाविद्यालय का नवीन सत्र 2013-14, 15 जून को प्रात: 10:30 बजे से प्रारम्भ हो रहा है

स्नातक पाठ्यक्रम

स्नातक पाठ्यक्रम ( under Graduate Course )
B.Sc. Part-1
बी एस सी भाग एक में विद्यार्थी में विद्यार्थी को निम्नलिखित होना आवश्यक है।
(अ ) अनिवार्य विषय : आधार पाठ्यक्रम (Foundation Course) हिंदी एवं अंग्रेजी पर्यावरण विज्ञान ( Environment Science )
(ब) वैकल्पिक विषय समूह : निम्नलिखित विषयों में से विद्यार्थी एक विषय समूह का चयन कर सकता है जिसमे उसे प्रवेश कि अहर्ता है -

विषय उपलब्ध स्थान
1.01 गणित , रसायन- विज्ञान, भौतिक- विज्ञान (Mathematics, Chemestry, Physics) 200
1.02 गणित ,भौतिक-विज्ञान, रक्षा-विज्ञान (Mathematics, Physics, Geology) 20
1.03 गणित , भौतिक- विज्ञान, रक्षा अध्ययन (Mathematics, Physics, Defence Studies) 40
1.04 गणित , भौतिक- विज्ञान, सुचना प्रौद्योगिकी (Mathematics, Physics, Information Technology) 60
1.05 गणित , भौतिक- विज्ञान, कंप्यूटर विज्ञान(Mathematics, Physics, Computer Science) 60
1.06 रसायन विज्ञान प्राणी विज्ञान , वनस्पति विज्ञान (Chemistry, Zoology, Botany) 200
1.07 रसायन विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, भू-विज्ञान (Chemistry, Zoology, Geology) 30
1.08 रसायन विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, रक्षा - अधयन (Chemistry, Zoology, Defence - Studies) 30
1.09 रसायन विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, शुक्ष्म जिव विज्ञान(Chemistry, Zoology, Microbiology) 40
1.10 रसायन-विज्ञान, वनस्पति , जैव - प्रौद्योगिकी (Chemistry, Botany, Bio-Technology) 12
1.11 रसायन विज्ञान, वनस्पति-विज्ञान, जैव - रसायन (Chemistry, Botany, Bio-Chemistry) 12
1.12 रसायन विज्ञान, प्राणी -विज्ञान, जैव - प्रौद्योगिकी (Chemistry, Zoology, Bio-Technology) 30
1.13 रसायन विज्ञान, प्राणी -विज्ञान, जैव - रसायन (Chemistry, Zoology, Bio-Chemistry) 12
1.14 रसायन विज्ञान, प्राणी -विज्ञान, भू-विज्ञान (Chemistry, Zoology, Geology) 30
1.15 रसायन विज्ञान, प्राणी -विज्ञान, रक्षा - अध्ययन (Chemistry, Zoology, Defence Studies) 30
1.16 बी . सी . ए (समस्त निर्धारित विषय ) स्ववित्तीय आधार पर 30

बी. एस. सी. भाग-दो एवं तीन
(B.Sc. Part-2 & Part-3)
(अ ) अनिवार्य विषय : आधार पाठ्यक्रम (Foundation Course) हिंदी एवं अंग्रेजी
(ब) वैकल्पिक विषय समूह : विद्यार्थी ने जिस विषय के साथ भाग एक /दो उत्तीर्ण किया है

स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम

स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम ( Post Graduate Course )
एम. सी. प्रथम सेमेस्टर
M.Sc. First Semester

विद्यार्थी ने बी एस - से परीक्षा जिन वषयों को लेकर उत्तीर्ण कि है वह उन्ही विषयों में से एक में सम एस सी प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश पाने का पात्र है। रक्षा अध्ययन के लिए किन्ही भी विषयों को लेकर बी एस सी उत्तीर्ण विद्यार्थी पात्र होंगे। जैव प्रौद्योगीकी में जैव समूह के किसी बी विषयों में उत्तीर्ण छात्र प्रवेश ले सकते है।

विषय उपलब्ध स्थान
4.01 जैव - रसायन (Bio-chemistry) 15
4.02 जैव - प्रौद्योगिकी (Bio-technology) 15
4.03 वनस्पति-विज्ञान ( Botany ) 25
4.04 रशायन विज्ञान (Chemistry) 20
4.05 रक्षा - अध्ययन (Defence Studies) 20
4.06 भू-विज्ञान (Geology) 20
4.07 गणित (Mathematics) 30
4.08 भौतिक विज्ञान (Physics) 20
4.09 प्राणी विज्ञान (Zoology) 25

स्नातकोत्तर स्तर पर सेमेस्टर प्रणाली के अंतर्गत अध्यापन

प. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर द्वारा जरी अध्यादेश क्रमांक 170 के अधीन स्नातकोत्तर कक्षाओं में सेमेस्टर प्रणाली लागु कि गई है। यह अद्यादेश अवलोकनार्थ परीक्षा प्रकोष्ठ में उपलब्ध है।
सभी विषयों को स्नातकोत्तर कक्षाओं में अध्यापन कार्य सत्र --- से सेमेस्टर पद्धति से किया जा रहा है।प्रत्येक समेस्टर में सैद्धांतिक कक्षाओं के साथ प्रयोगी कार्य किया जाता है। विषय के अनुशार लैब कार्य , फिल्ड वर्क ,प्रोजेक्ट वर्क आदि कराया जाता है। सैद्धांतिक तथा प्रायोगिक परीक्षाएं प्रत्येक सेमेस्टर के अंत में ली जाती है। वर्त्तमान में स्नातकोत्तर कक्षाओं में परम्परागत मूल्यांकन पद्धति अपनायी जा रही है।

नोट : उच्च शिक्षा विभाग, छ . ग . शासन के आदेशानुसार सत्र 2007-2008 से स्नातकोत्तर स्तर पर विज्ञान के सभी विषयों का अध्यापन अनिवार्यत अंग्रेजी माधयम में कराया जायेगा। परीक्षा का माधयम विद्यार्थी हिंदी या अंग्रेजी के रूप में चयन करने के लिए स्वतन्त्र होगा।

डिप्लोमा कोर्स

कंप्यूटर विज्ञान में संचालित डिप्लोमा कोर्से
महाविद्यालय में निम्न लिखित डिप्लोमा कोर्स छात्रों के लिए उपलब्ध है।

8.03 डिप्लोमा एन कंप्यूटर एप्लीकेशन

8.04 पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन कंप्यूटर अप्लिकेशन प्रत्येक पथ्यक्रम के लिए ३ सिट उपलब्ध है।

BCA पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए न्यूनतम योग्यता 12th पास होना चाहिए .

DCA पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए न्यूनतम योग्यता 12th पास होना चाहिए .

PGDCA पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए न्यूनतम योग्यता किसी भी संकाय से स्नातक पास होना चाहिए।
उपरोक्त पाठ्यक्रम में प्रवेश परीक्षा के माध्यम से प्रवेश दिया जावेगा।

एड ऑन कोर्स

एड ऑन पाठ्यक्रमों कि सुविधा
सत्र 2006-07 से महाविद्यालय में अध्ययनरत नियमित छात्रों के लिए दो -- प्रारम्भ किये गए है।
8.01 भूगर्भ विज्ञान के अंतर्गत "Environment Impact Assessment"
8.02 भौतिक विज्ञान के अंतर्गत "Data Care Management"

प्रत्येक पाठ्यक्रम के लिए 30 सिट उपलब्ध है। यह पाठ्यक्रम विद्यार्थी के नियमित पाठ्यक्रम के अतितिक्त होगा। प्रत्येक पाठ्यक्रम के अतिरिक्त होगा। प्रत्येक पाठ्यक्रम 03 स्तरों में विभक्त किया गया है। पहले स्तर में एक वर्ष का सर्टिफिकेट कोर्स होगा। सर्टिफिकेट कोर्स पास विद्यार्थी द्वितीय वर्ष स्तर के डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश ले सकेगा। कोर्स पूरा करने पर उसे डिप्लोमा प्राप्त होगा।

तृतीय स्तर Advanced डिम्प्लोमा कोर्स कहलायेगा। डिप्लोमा कोर्स के बाद यह पाठ्यक्रम पूर्ण करने पर विद्यार्थी को Advanced Diploma प्राप्त होगा। यह पाठ्यक्रम किसी भी कक्षा के विद्यार्थी कर सकते है।

CERTIFICATE COURSES FOR THE STUDENTS IN GEOLOGY 2018- 2019

Fundamental certificate courses for the students (FCCS)

 Seeing towards the practical approach and providing training based educational courses those applied in nature, the department of Geology, Govt. N.P.G. college of Science, Raipur is of view that the certificate courses on the topics given below will be of vital importance. Hence, the department of Geology is going to introduce these courses from the session 2018 -2019 for providing the practical training-based courses to the students.
 These courses will be run by the department under the autonomous scheme laid down by the UGC. Other important points regarding these courses are as follows. :-

i. The fees for these certificate courses will be Rs 5000 (Rupees five thousand only).
ii. The essential educational qualification for doing these certificate courses is 10+2 from science stream
iii. There would be one theory paper and submission of project report on practical case study on the topic concerned allotted to the student by the supervisor after successful completion of three weeks training.
iv. Theory and project would be of four credits and hundred marks each. Student must pass both theory and project with minimum 50% of marks separately.
v. One student may undergo one certificate course in an academic year.
vi. The syllabus for these courses are not in unit pattern unlike the other regular courses keeping in view the facts that these are practical based courses and flexible in nature.
vii. Evaluation will be done on the basis of theory as well as project report submitted by the student.
viii. The project report is to be submitted by the student after successful completion of three weeks practical training at any ongoing project of repute.
ix. The students those who are pursuing regular courses like M.Sc. and B.Sc. may also undergo this certificate course.
x. There will be 10 seats available in each certification course

Name of the certificate course for the students: -

1. Fundamental certificate course on GIS and Remote Sensing.
2. Fundamental certificate course on Rain Water Harvesting.

gcsrcg.org download forbiddenfleshtattoos.com download