Library

ग्रंथालय किसी भी संस्था का अनिवार्य अंग है। ग्रंथालय के माध्यम से ही शिक्षण संस्थाएं शिक्षा के श्रेष्ठ कार्य को भली भांति सम्पन्न कर सकती है। शैक्षणिक संस्थाओं में महाविद्यालय उच्च शिक्षा का केंद्र होता है। महाविद्यालय के द्वारा उच्च शिक्षा प्रदाय का कार्य ग्रंथालय में संगृहीत उपयोगी ग्रन्थ पाठ्य सामग्री के माध्यम से ही पूर्ण किया जा सकता है अर्थात सुसज्जित ग्रंथालय के बिना महाविद्यालय निष्प्राण हो सकता है ,जिस प्रकार प्राण बिना शरीर।

महाविद्यालीन ग्रंथालय की स्थापना उसके स्थापना काल १९४८ में ही हुई प्रारंभिक वर्ष १९४८ में ४०१ पुस्तकें क्रय के साथ ग्रंथालय कि शुरुआत हुई जो १९५१ तक दस गुना ४००० से ऊपर पहुँच चुकी थी। शनै शनै बड़ी तीव्र गति से ग्रंथालय ने अपना विस्तार किया। प्रथम पुस्तकालय के अधयक्ष श्री आर एस नय्यर थे। प्रारम्भ में सामान्य निधि से पुस्तको कि क्रय की जाती थी दान -उपहार से प्राप्त बुक बैंक योजना वर्ष १९७१ से तथा विश्वविद्यालय अनुदान योजना में १९६७ से पुस्तकें का क्रय आरम्भ हुआ। बुक बैंक योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाती एवं जनजाति छात्रो को परीक्षा अवधि तक के लिए पुस्तकें अध्ययन हेतु निर्गमित की जाती है। वाचनालय काश पृथक से संयोजित है। जिसमें छात्र -छात्राओं के अध्ययन के लिए पत्र- पत्रिकाएं तथा आवश्यक पाठ्य सामग्री अध्ययन सुविधा प्रदाय की जाती है

ग्रंथालय में वर्त्तमान में सामन्य निधि से क्रय पुस्तकों कि संख्या ७०४६३ , विश्वविद्यालय योजना से क्रय प्रुस्तकों कि संख्या ४९०७८ हअ १०+२ विज्ञानं शिक्षा सुधर योजना कि क्रय पुस्तकों कि संख्या ८२६, अनुसूचित जाति एवं जनजाति योजना क्रय पुस्तकों कि संख्या १०६८४ , उपहार व् दान में प्राप्त बुक बैंक योजना में क्रय पुस्तकों कि संख्या १८३४ , बी पि ल योजना में पुस्तकों कि संख्या १८८९२, शोध पत्रिकाएँ की संख्या चालीस , रास्ट्रीय व स्थानीय समाचार- पत्र कि संख्या २२ , अन्य पत्रिकाएँ की संख्या५०, न्यूज़ लेटर कि संख्या ४८, वीडियो कैसेट कि संख्या २०० , सीडी संख्या १०८ आडियो कैसेट संख्या ०८, शोधग्रंथ संख्या १०, महाविद्यालय पत्रिका महिषा संख्या ५५.

महाविद्यालयीन ग्रंथालय दो भागों में विभक्त है - १. सेंट्रल लाइब्ररी मुख्य ग्रंथालय २. विभागीय ग्रंथालय (अ) बायोटेकनोलॉजी ग्रंथालय (ब) बायोकैमेस्ट्री ग्रंथालय (स ) वनस्पती शास्त्र ग्रंथालय (द ) भू - गर्भ ग्रंथालय रसायन शास्त्र ग्रंथालय (इ) जंतु विज्ञान ग्रंथालय (ज )सैन्य विज्ञान ग्रंथालय (क ) भौतिकी शास्त्र ग्रंथालय (ख) माइक्रोबिओलॉजी ग्रंथालय (ग) गणित ग्रंथालय (घ) हॉस्टल नं -२ ग्रंथालय (छ ) हॉस्टल नं -३ ग्रंथालय (ज) महिला हॉस्टल ग्रंथालय (झ) ऑफिस ग्रंथालय (ल) प्राचार्य कक्ष ग्रंथालय (ट) कंप्यूटर ग्रंथालय (ठ )इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी ग्रंथालय (ड) अंग्रेजी ग्रंथालय (ढ़ )हिंदी ग्रंथालय। इस प्रकार इस महाविद्यालयीन ग्रंथालय में है संतरा ग्रंथालय में उपलब्ध सुविधाएँ (१) फ़ोटोकॉपी सुविधा (२) त्वरित रिफरेंस सेण्टर सुविधा (३)सन्दर्भ सेवा सुविधा (४)इंटरनेट सुविधा (५) ग्रंथालय इंटर -लोन सुविधा (६) डिजिटल लाइब्रेरी सुविधा (७)वार्षिक पत्रिका अध्ययन कक्ष सुविधा (८) शिधार्थी कक्ष सुविधा (९)न्यू बुक डिस्प्ले (प्रदर्शन कक्ष) (१०) वाचनालय सुविधा (११) बुक बैंक (१२) कंप्यूटर (१३ )ऑडियो विजुअल रेसोर्सेस (14) Publication and Research Support Services (15) Information Dispaly And Notification Services (16) Bibliographic Compilation (17) ILL/ Resources Sharing (18) Reprographic Facilities. (19) User Orientation. (20) OPAC/Indexing Services. (21) Audio- Visual Resources. (22) बी पी योजना (२३)अनुसूचित जाती योजना (२४) अनुसूचित जनजाति योजना निम्न सुविधाएं ग्रंथालय में दी जाती है। ६ कंप्यूटर, १फोतोचोप्य मशीन, एक टंकण मशीन, स्कैनिंग मशीन कि सुविधा दी जा रही है। वर्त्तमान में डॉ प्रवीण शर्मा ग्रंथपाल है। ग्रंथपाल सहायक श्री मति ईश्वरी जंघेल , श्रीमती योगेश्वरी ध्रव तथा बुक लिफ्टर के पद पर श्री शैलेन्द्र मानिकपुरी कार्यरत हैं .

पुस्तक प्रदर्शनी -

महाविद्यालयीन ग्रंथालय में वर्षभर विभिन्न अवसरों पर छात्र-छात्राओं एवं महाविद्यालयीन स्टाफ हेतु पुस्तक प्रदर्शनी का आयोजन किया जाता है , इस प्रदर्शन मए विषय विशेष कि अब तक अप्रकाशित दुर्लभ अप्राप्त पुस्तकें प्रदर्शित कि जाती है जिसका लाभ छात्र - छात्राओं द्वारा उठाया जाता है गांधी / जयंती सुचना प्रौद्योगिकी / हिंदी / सैन्य विज्ञान / जैव प्रौद्योगिकी / कंप्यूटर साइंस जंतु विज्ञानं / वनस्पति विज्ञानं / भू गर्भ शाश्त्र विषयों कि पुस्तक प्रदर्शनी विगत वर्षो से आयोजित की गयी।, छात्रो ने इसका लाभ बड़ी संख्या में उठाया।

सर्वश्रेष्ठ उपयोगकर्ता ग्रंथालय पुरष्कार

महाविद्यालय ग्रंथालय में सर्वश्रेष्ठ उपयोगकरता का पुरुस्कार वार्षिक स्नेह सम्मेलन के पुरष्कार वितरण समारोह में प्रति वर्ष प्रदान किया जाता है जैसे कि विगत वर्ष कु नेहा शुक्ला ऍम एस सी अंतिम ( रक्षा अध्ययन ) को मुख्य अतिथि माननीय डा श्रीमती वीणा सिंह रायपुर द्वारा प्रदत्त किया गया , वर्षभर वाचनालय रजिस्टर में दर्ज प्रविस्ठ के आधार पर प्रदत्त इस पुरष्कार के अंतर्गत पुरष्कृत छात्र को सर्व्श्रेस्थ उपयोगकर्ता ग्रंथालय पुरष्कार प्रमाण-पत्र।, पुस्तको का सेट , प्रदान किया जाता है , पुरुष्कृत छात्र नेहा शुक्ल व् श्री तुलेन्द्र वर्मा ने वर्ष भर वाचनालय में अपनी सार्थक उपस्थिति दर्ज कि और ग्रंथालय का सर्वश्रेष्ठ उपयोग किया , प्रतिवर्ष वार्षिक उत्सव में दिया जेन वाला यह पुरस्कार ग्रंथालय द्वारा दी जा रही बेस्ट प्रक्टिस का एक उदहारण है , छात्रों एवं स्टाफ में इस पुरष्कार योजना से बेहद संतोषजनक परिणाम आया है , ग्रंथालय/वाचनालय में आने वाले पाठकों कि संख्या में उत्तरोतर वृद्धि इसका परिचायक है , इसका बेहतर परिणाम है।