Principal Desk

Principal:Dr. K.N. Bapat

सन्  1948 में स्थापित शासकीय नागार्जुन स्नातकोत्तर विज्ञान महाविद्यालय , रायपुर अपने प्रगति के पथ पर निरंतर अग्रसर होता हुआ आज प्रदेश के प्रतिष्टित स्वशासी आदर्श अग्रणीय शासकीय महाविद्यालयों मेँ परिगणित किया जाता है । इसकी शैक्षणिक उत्कृष्टता का ही परिचायक है कि विज्ञान तथा कंप्यूटर संकायों में यहाँ अध्ययन-अध्यापन का कार्य किया जा रहा है |

यहॉ आठ महत्वपूर्ण विषयों में स्नातकोत्तर की कक्षायें संचालित हे । स्ववित्तीय रोजगारोन्मुखी विषयों जैसे- डी.सी.ए बी.सी.ए., पी.जी.डी.सी.ए., बी.एस.-सी. (सूप्रौ . समूह ) , बी एस.सी . (कम्यूटर साईंस समूह ) बी.एस-सी
(बायोटेक्नोलॉजी समूह ), बी.एस -सी (बायोकेमेस्ट्री समूह ), बी.एस सी. (सूक्ष्मजीव विज्ञान समूह ) के अध्ययन- अध्यापन की सुविधा से युवा वर्ग लाभान्वित हो रहा है | महाविद्यालय के सक्रिय जनभागीदारी समिति की अध्यक्ष माननीय श्रीमती मीनल चौबे जी हैँ जिनके उत्साह वर्धक प्रयासों एवं सतत् सहयोग से यह महाविद्यालय समग्र विकास के पथ पर आगे बढ़ने को प्रयासरत हे |

युवा वर्ग किसी भी राष्ट्र की सकारात्मक ऊर्जा का अक्षय रत्रोत है । हम इस ऊर्जा को सही दिशा मेँ नियोजित एव रूपान्तरित  करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैँ | हमें उन्हें सामाजिक एवं राष्टीय आवश्यकताओं के अनुरूप समग्र विकास के साथ विशिष्ट व्यक्तित्व का सृजन करना है । शिक्षा का काम सिर्फ विद्यार्थियों तक सूचनाएँ एवं जानकारियाँ पहुँचाना भर नहीं हे वास्तविक शिक्षा विद्यार्थियों में निहित प्रतिभाओं, संभावनाओं और रचनात्मक क्षमताओं को उभारने विकसित करने और  संस्कारित करने का कार्य भी करता है । विश्वविद्यालय अनुदान आयोग एवं राज्य शासन की प्रेरणा व मार्गदर्शन से समस्त महाविद्यालय परिवार जनभागीदारी समिति उच्च शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य करते हुये भारतीय संस्कृति एवं मूल्यों में  अटूट विश्वास रखते हुये हम आधुनिक पीढी को विश्व स्तरीय गुणवत्ता के अनुसार गढ़ने एवं निष्ठापूर्वक कार्य करने के लिए वचनबद्ध है |

हम उम्मीद करते हैँ कि हमारे विद्वान प्राध्यापक , कर्मठ प्रशासनिक एवं तकनीकी स्टाफ और लगनशील विद्यार्थी अपने सामूहिक क्रियाकलापों से महाविद्यालय में ऐसे स्वस्थ शैक्षणिक एवं शैक्षिणेत्तर वातावरण का निर्माण करेंगे जिसमें  ज्ञान की खोज एवं प्रसार को नया आयाम मिल सके | इसके साथ ही हम चाहेंगे की हमारे छात्र-छात्राएं ज्ञान को कार्य  मे  रूपांतरित कर समाज एवं राष्ट्र के निर्माण और  विकास मे अपना बहुमूल्य योगदान दे | 

प्रिया विद्यार्थियों ! हम आप सबका नये सत्र मे हार्दिक स्वागत करते है । हम आपको विश्वास दिलाते है कि आप संस्था के समृद्ध शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक वातावरण से उत्साहित एवं प्रभावित होंगे । मै आप सभी के उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ l

 

डॉ. के. एन. बापट
प्राचार्य